Type Here to Get Search Results !

Computer Networking क्या है इसके प्रकार in hindi

0

सबके मन मे नेटवर्किंग से related सवाल आता रहता है बहुत सारे लोग networking के बारे में जानना चाहते है इसलिए आज हम आपको Computer Networking के बारे में पूरी detail के साथ जानकारी देंगे जिसमे हम Computer नेटवर्क क्या है और इसके components और बेसिक एलिमेंट्स के बारे में बताने वाले है. इसके अलावा हम कंप्यूटर networks के प्रकार के ऊपर भी चर्चा करेंगे.

Computer Networking in hindi

तो सबसे पहले Computer networking क्या है इसे समझ लेते है. फिर हम एक - एक करके सभी चीजों के बारे में जानेंगे.

Computer Networking in hindi

Computer world में Computer Networking का मतलब 2 या 2 से अधिक कंप्यूटिंग डिवाइस को डेटा ट्रांसमिशन के लिए एक दूसरे से जोड़ना है. नेटवर्क Computer हार्डवेयर और कंप्यूटर सॉफ्टवेयर के मिश्रण से बनता है. Network पर devices एक group communication की मदद से डेटा और information को एक दूसरे के साथ शेयर करते है. नेटवर्क में डिवाइस particular address होते है को data भेजा जाए तो वह केवल उसी पर्टिकुलर एड्रेस वाले डिवाइस के पास जाए न कि कही और चल जाये.

Components of Networking in हिंदी

Mostly छोटे और बड़े सब्जी तरह के नेटवर्क्स 3 components - servers, workstation और resources से बने होते है.

Servers
Server network के core components होते है और ये डिफरेंट size एंड shapes में आते है. Servers का काम task को परफॉर्म करने के लिए जरूरी resources के लिए link provide करना होता है. Server client computer को कि वो क्या चाहते है और उसे पाने के लिए कहा जाए इस विषय मे दिशा बताते है. Servers 2 तरह के होते है और एक dedicated server और दूसरा non dedicated servers.

Dedicated server Network के लिए सर्विस देते है इसके अलावा कुछ नही. वही Non dedicated servers एक या उससे अधिक नेटवर्क सर्विस और लोकल एक्सेस देते है.

Workstation
Workstation वह network computer है जिस पर यूज़र्स अपना काम करते है. इनके काम के अंतगर्त - Email, database design, word processing और कोई अन्य कम्प्यूटर से रिलेटेड personal task शामिल होते है. Servers के साथ communicate करने के लिए वर्कस्टेशन को नेटवर्क interface card रखना होता है जिसे NIC भी कहा जाता है.

Resources
Resource network पर कोई आइटम की तरह है जो नेटवर्क पर उपयोग होती है. Resource item की एक बहुत बड़ी रेंज है जैसे - printer, file, application और disk storage.

Network को fully functional बनाने के लिए कंपोनेंट्स का होना जरूरी ही नही बल्कि इन सबका साथ काम करना भी बहुत जरूरी है.

Basic elements of computer networks

End devices (Hosts)
ये communication के sources और destination होते है कहने का मतलब है कि ये ऐसे device है जो मैसेज को generatकe, transmit या receive और interpret करते है. In डिवाइस से end users ज्यादा परिचित होते है. यह डिवाइस end user और नेटवर्क के बीच interface का काम करते है. इसके example कुछ इस तरह से है.
IP phone, Computer, Mobile phone, PDAs.

Intermediary (मध्यस्थ) devices
एक ऐसे डिवाइस होते है जो जुड़े हुए access देते है और host के मध्य मैसेज ट्रांसपोर्ट करते है. इसके example में आते है -: Hubs, switches, routers, modems, firewalls.

Transmission Media
Transmission media ऐसे physical media होते है जो devices को आपस मे जोड़ कर उनमें मैसेज के आदान-प्रदान को संभव बनाते है. ये वायर के रूप में हो सकते है इसके अलावा ऑप्टिकल फाइबर केबल या रेडियो लिंक जैसे wireless भी हो सकते है.

Messages
ऐसी application होती है जिसमे टेलीफोन calls, ईमेल और वेब pages आते है.

Processes
यह एक ऐसे सॉफ्टवेयर होते है जो network devices पर communication फंक्शन को सपोर्ट करते है और, एन्ड यूज़र्स को सर्विसेस देते है. Services की tulna में प्रोसेसेस एन्ड यूजर को transparent बनाते है.

Services
Services network aware software application (web browser) होती है जो कुछ services (World wild web) की मदद से end यूजर की ऍप्लिकेेेन कि मदद से end user की application को पूरा करने के लिए नेटवर्क resources (data) Request करती है.

Type of Computer Network : Computer Networks के प्रकार

Networks में हमें LAN, WAN, MAN, GAN, PAN जैसे networks typesदेखने को मिलते है. तो चलिए अब हम एक एक करके इनके बारे में जान लेते है.

LAN Networks -: LAN एक ऐसा network का प्रकार है जो कम दूरियों पर होने वाले devices को कनेक्ट करता है. जैसे कि Office, घर या किसी बिल्डिंग मे single lan का उसे किया जाता है. LAN कभी कभी अपने आस पास के बिल्डिंग के ग्रुप में भी फैल होता है और इसे साथ मे कम स्पेस में ऑपरेट करने के लिए LAN भी single person या किसी organization द्वारा control किया जाता है.

WAN Networks -: Wan ऐसा network होता है जो बहुत ज्यादा दूरियों तक devices को connect करता है. WAN अलग अलग स्थित लेन (LAN) का संग्रह होता है. Network device जिसे हम राऊटर के नाम से जानते है ये LANS को कनेक्ट करके Wan बनाता है IP Networking में router LAN Address और WAN Address दोनों को maintain करती है. WAN अधिक दूरी पर connectivity के लिए ATM Frame rile और स.25 जैसी टेक्नोलॉजी का उपयोग करता है.

MAN Networks -: MAN यह ऐसा network type है जो lan से बड़े लेकिन wan से छोटे physical area में होते है. Example के लिए city में WAN का उपयोग किया जाता है और वही किसी बड़ी university में MAN का उपयोग हो सकता है. MAN - Local ISP, cable TV या large corporation को connectivity देता है.

GAN Networks -: GAN यानी कि global area network होता है और GAN उस network को कहते है जिसका use बहुत सारे wireless lans, satellite coverage area के बीच communication को सपोर्ट करने के लिए होता है. IEEE project 802 में terrestial wireless IEEE के आगे की सीरीज होती है.

PAN Networks -: Personal area network ऐसा नेटवर्क का प्रकार होता है जिसका use टेलीफोन और personal digital assistant जैसे कंप्यूटर डिवाइस में कम्युनिकेशन के लिए उपयोग होता है जो सिर्फ एक ही यूजर तक सीमित होता है. PAN में printers, fax machine, scanner जैसे devices उपयोग किये जा सकते है. PAN को हम personal device's में communication और high level के network and internet को कनेक्ट करने के लिए भी कर सकते है.

हमने यह पर important networks types को बताया है अगर आपको networking के बारे में कुछ जानना है तो आप Comment करके हमे बता सकते है हम आपको इसकी जानकारी जरूर देंगे. उम्मीद है कि आपको Computer Netwoking के बारे में सब कुछ clear हो गया होगा. अब आप जल्दी से हमारी वेबसाइट को subscribe करिए ताकि हम आपको new updates की जानकारी आपके ईमेल पर भेज सके.

Post a Comment

0 Comments